Thursday, March 29, 2012

दो पलों से ...

महबूब जो आये गली में,
 उनका दीदार हो गया,
किस्सा जो सुना मोहब्बत का,
 दिल बेकरार हो गया !
कहानी सुनते रहे उनकी जुबा से,
 देखा कहाँ मेरा प्यार खो गया !
उन्होंने जो दी वो सजा कम लगी,
 इतना उन्ह दो पलों से रमन को प्यार हो गया !!!!

No comments: