Wednesday, December 28, 2011

वो तेरी रानी नहीं !

वह हमारे जिंदा रहने के लिए दुआ करती है,
 परन्तु  जिंदा रहने का कारण बन सकती नही !

वह हमारे लिए हर कदम दुःख झेलती रहती है,
 परन्तु हमें सुख देने के लिए राजी नही !

बेशक दुनिया लाख चाँद-सितारों की सैर करती रहे,
 परन्तु किसी के दिल में रहना आसाँ नहीं !

ए रमन तूं क्या सोचता रहता है सारा-सारा दिन,
 क्या तूं उसका और वो तेरी रानी नहीं !

No comments: