Thursday, October 13, 2011

कोई हमसे दूर ....

लाखो दुःख की झुरिया देखी उस बूढ़े से चेहरे पर,
लेकिन उस के चेहरे की मुस्कान में दर्द छिप जाता है !

रिश्ता नही होता है कोई उस चेहरे से मेरा,
लेकिन दिल मेरा कोई न कोई रिश्ता बनाने लग जाता है !

हस्ती कुछ पलों की होती है ख़ुशी गम की "रमन"
न चाहते हुए भी कोई हमसे दूर चला जाता है !

No comments: