Friday, October 14, 2011

Aaja Ae Rani

म्हारे घर में रानी, तेरी लोड घणी,
म्हारी माँ तन उडीके, बारने में खड़ी,
आजा ए रानी, क्यों तुं करे, अब देर घणी !

म्हारे घर में चाले, म्हारी माँ रो हुकमडो
तुं तो बन गई, म्हारी माँ री रतन-जड़ी
आजा ए रानी, क्यों तुं करे, अब देर घणी !

म्हारे घर में दूध दही, घणो ही है,
सखिया बुला, बुला ले सागे चार जणी,
आजा ए रानी, क्यों तुं करे, अब देर घणी !

म्हारो आंगनियो है, सुनो पड्यो,
पायल तेरा पगलिया सोदे, पदम्-मणी,
आजा ए रानी, क्यों तुं करे, अब देर घणी !




No comments: