Wednesday, August 10, 2011

mehak ....

 महकना सीख़ ले ऐ दिल... तू खुद की महक से.... दूसरों की महक कुछ पल के लिए हुआ करती है !

No comments: