Wednesday, August 24, 2011

माना भगत सिंह की देह नही...!

माना भगत सिंह की देह नही,
 एहसास तो उनके जैसे है !
शहीद उन जैसे ना हुए तो क्या,
 हालात भी तब जैसे, अब नही है !
गोरे भी मुश्किल से भगाए थे,
 व्यापार के बहाने जो यहाँ आये थे !
अपनों से लड़ना दोस्तों,
 खतरनाक है इतना होता,
एक ही घर से हिंद निकले,
 दूसरा पाक कभी ना होता !

No comments: