Monday, April 18, 2011

अब सामने....

भुझी हुई शमा को जलाने के लिए,
 कहीं तेल न मिला, जब तेल मिला, 
तो जलाने वाला नही मिला.
अब तो तेल भी है और जलाने वाला भी,
 परन्तु अब सामने अँधेरा नही रहा !

No comments: