Saturday, December 25, 2010

सूखी आँखों से.....

सर्द हवा गरम हो जाती है, नाम उनका लेने से !
आंखें झुक जाती है , याद उनको करने से !
किस्मत भी अजीब खेल दिखाती है,
कहीं बादल नही बरसते महीने सावन में !
तो कहीं सूखी आँखों से भी सावन बरसने लग जाते है !

No comments: