Saturday, January 2, 2010

दिल माँ वरगा .....

नहियो लभना ऐ दिल मैनू माँ वरगा, रब्बा देंवी मैनू दिल माँ वरगा !
या ते रब्बा बना ले मैनू आपने वरगा, नहीं ते दे दे मैनू दिल माँ वरगा !
हर हार नु वि जो सहण वरगा, जिन्वे कर देंदा ऐ बोहड़ छा वरगा !
खुद गीली, ते सुकी ते बिठान वरगा, जवाक आपनेया नु सीने नाल लान वरगा !
आप भुखेया, ते बुर्किया मुह-च पान वरगा , ख़ुशी वेख के पुत दी, भूख मिटान वरगा !
लावे आप पछान, सच्चे यार वरगा, होवे जिथे पहुंन्च, देवे ओथे पुचान वरगा !
इस धरती ते नहीं दुजी थां वरगा, रब्बा नहियो लभना ऐ दिल मैनू माँ वरगा !
रब्बा देंवी मैनू दिल माँ वरगा......रब्बा देंवी मैनू दिल माँ वरगा.....!

4 comments:

Anuj said...

dis z really nice yar

raman said...

Thanks Anuj

Bishnoi said...

Bahut hi chnaga likhiya hai
Har bande nu maa da pyar naseeb hove
Maa hundi hai maa o dunia walio

Good
keep it up
RK Bishnoi

raman said...

Tusi Sahi Keha hai Sir Ji, Shukariya Ji